इंसान के अच्छाई की पहचान उसके आचरण से होती है न कि उसके रूप सौंदर्य से। इस बात का महत्त्व एक शासक के लिए और अधिक है क्योंकि अपनी प्रजा पर न्याय अथवा अन्याय करने का अधिकार भी केवल उनके पास होता है।

राजा को हमेशा ध्यान देना होता है कि कुछ घटनाएं किसी के वश में नहीं होतीं और ऐसे में किसी को दोषी ठहराना न्यायसंगत नहीं। यदि राजा ऐसा कर सके तो उसकी जयकार होना निश्चित है।

जादुई ढोल एक प्राकृतिक विकृति से ग्रस्त लेकिन न्यायप्रिय राजा की एक मनमोहक कथा है I

Credits : 4to40.com

More Resources:

जादुई ढोल की कहानी तोह पढ़ ली| आइए सीखें की एक अनोखे तरीकेसे ढोल कैसे बना सकते |

0 Shares:
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like