इस दुनिया में human brain जैसी अनूठी वस्तु कोई भी नहीं हो सकती !
इसमें information store और process करने की अपूर्व क्षमता है। साथ ही, हमारे मष्तिष्क में कल्पनाशीलता भी है जिसने हमें हमेशा भविष्य के बारे में imagine करने की क्षमता देकर विकास और evolution को संभव किया है।

इसी कल्पनाशीलता और कौतुहल ने मनुष्य को नई चीजों की खोज, अविष्कार एवं उनका इस्तेमाल करने के नए तरीके सिखाती है ।

आधुनिक विज्ञानं ने हमारे मष्तिष्क – उसकी संरचना, नित्य प्राप्त होने वाले information को store करना और recall करना, हमारे विशेष गुण और skills, इत्यादि पर बहुत रिसर्च किया है जो brain capacity को और भी बढ़ाने में बहुत सहायक हो सकता है ।

आइए देखें डॉ. शुभा तोले इस विषय में क्या कहती हैं…

Credits: TedTalk (Hindi)
Image Credits: Medical photo created by kjpargeter – www.freepik.com

More Resources:

About the Speaker:
Shubha Tole is a neuroscientist, professor and principal investigator at the Tata Institute of Fundamental Research in Mumbai. Her research involves investigating the evolution and development of the mammalian brain.
Here is a short story published on Google India, on how she developed an interest in neurobiology and made a career as a neuroscientist.

0 Shares:
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like